दिल्ली ISBT महाराणा प्रताप बस अड्डे पर महाराणा प्रताप की प्रतिमा का अनावरण।

AA News
ISBT Delhi

ISBT Delhi Maharana Pratima

ISBT Delhi Maharana Pratima

9 मई 2018 ISBT महाराणा प्रताप बस अड्डे पर बुद्धवार प्रातः 10 बजे वीर शिरोमणी श्री महाराणा प्रताप सिंह सिसोदिया राजवंश के 478 वे जन्म दिवस पर मूर्ति स्थापना व माल्यार्पण कार्यक्रम में उपमुख्यमंत्री दिल्ली सरकार श्री मनीष सिसोदिया, राज्यसभा सांसद श्री संजय सिंह, ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर श्री कैलाश गहलोत, विधायक नरेला श्री शरद चौहान, चैयरमैन फूलमंडी दिल्ली श्री विजय सिंह सिसोदिया (सोनू),श्री महावीर ग्रुप ऑफ सोसाइटी से चैयरमैन श्री सत्यपाल सिंह सिसोदिया, विजेंदर सिंह सिसोदिया, अमरनाथ सिसोदिया (बबली) JP चौहान, श्याम सिसोदिया, रणजीत सिसोदिया और हजारों की संख्या में राजपूत क्षत्रीय समाज से आये हुए व्यक्तियों ने भाग लिया!

ISBT Delhi Maharana Pratima

ISBT Delhi Maharana Pratima

दिल्ली के मुकुंदपुर में भी धूमधाम से मनाई गई महाराणा प्रताप की जयंती।

Mukundpur Delhi Maharana Pratap Jynti Samaroh

Mukundpur Delhi Maharana Pratap Jynti Samaroh

दिल्ली के मुकुंदपुर में महाराणा प्रताप की प्रतिमा के पास पार्क के अंदर हजारों की संख्या में हरियाणा, राजस्थान , उत्तर प्रदेश, दिल्ली समेत कई राज्यों के राजपूत समाज से जुड़े लोग और संस्थाओं के पदाधिकारी यहां पहुंचे । पिछले 35 सालों से वीर महाराणा प्रताप की जयंती मनाने का कार्यक्रम दिल्ली में यहां आयोजित होता है। पहले इसका आयोजन भड़ोला गांव में होता था । अब इसका यह बड़ा आयोजन महाराणा प्रताप चौक मुकुंदपुर पर महाराणा प्रताप की प्रतिमा के पास होता है इस अवसर पर दूसरे कई गांवों में भी इस तरह की राजपूत समाज से जुड़ी सभाएं हुई जिसमें महाराणा प्रताप को उनकी जयंती पर लोगों ने याद किया। जगह-जगह महाराणा प्रताप की शोभायात्रा भी निकाली गई। महाराणा प्रताप के शौर्य से पूरा देश अवगत है और साथ ही उस समाज के लोगों का विशेष फर्ज बनता है कि ऐसे वीर योद्धा को हमेशा याद रखें और कार्यक्रम भी आयोजित करें ताकि आने वाली पीढ़ियों को भी महाराणा प्रताप की शौर्य गाथा की जानकारी मिले । इतिहास में भी बच्चे महाराणा प्रताप की शौर्य गाथा पढ़ते हैं लेकिन इस तरह से आयोजनों के माध्यम से जो जानकारी बच्चों को मिलती है वह आसानी से याद हो जाती है और जानकारी मिलती है वह जल्दी भूलते नहीं । इसलिए समय-समय पर देश के ऐसे सपूतों को याद करना राजपूत समाज ही नहीं बल्कि हम सभी भारतीयों का फर्ज है । क्या था सभा सभा का पूरा आयोजन वह आयोजकों से ही सुनिए।
Video में

वीडियो

Leave a Reply