बुराड़ी रैली , पैदल मार्च फिर पुतला दहन

AA News
Burari Delhi 110084
Report : Anil Kumar Attri

बुराड़ी में उत्तर प्रदेश निवासी एकता समिति और लोक कल्याण बुद्धा फाउंडेशन ने चेताया सरकार को। सैकड़ो लोग हुई एकजुट।

दिल्ली के बुराड़ी में दिल्ली सरकार का पुतला दहन । दिल्ली सरकार के खिलाफ रैली का बाद पैदल मार्च करके जलाया पुतला। कालोनियों के लोगों ने कालोनियों में सुविधाएं और विकास कार्य न होने पर किया विरोध ।

दिल्ली के बुराड़ी विधानसभा में आज कालोनियों से कई आरडब्ल्यूए के लोग और कुछ सामाजिक संगठन बुराड़ी बाईपास पर इकट्ठा हुए। यहां सैकड़ों की संख्या में लोग पहुंचे और एक रैली का आयोजन किया गया । इनकी मांग थी कि दिल्ली की कालोनियों में सबसे ज्यादा वोट बैंक रहता है बावजूद उसके कॉलोनियों में विकास कार्य नहीं करवाए जाते ।

Burari Road

Burari Road

बुराड़ी विधानसभा में करीब 100 के आसपास कच्ची कॉलोनियां हैं और इन कालोनियों में काम नहीं हो पा रहे हैं । सभी कालोनियां यहां बुनियादी सुविधाओं से वंचित है। बुराड़ी बाईपास पर लोगों ने इकट्ठा होकर सरकार के खिलाफ रैली करने के बाद करीब 2 किलोमीटर से लंबा सड़क पर मार्च निकाला और सरकार का पुतला दहन किया।

इनका कहना है कि बुराड़ी विधानसभा की कई लाख जनसंख्या है , बुराड़ी विधानसभा आउटर रिंग रोड से एक तरफ है दूसरी तरफ सिर्फ जहांगीरपुरी का एक ब्लॉक आता है उस ब्लॉक को छोड़ दिया जाए तो पूरी बुराड़ी विधानसभा में न ही कोई सरकारी अस्पताल है न ही फायर स्टेशन है और पानी की लाइनें भी सभी कालोनियों में नहीं मिल पाई है।
पुतला दहन का वीडियो

वीडियो

जहां पानी की लाइनें बिछी है वहां पानी बहुत कम और थोड़ी देर तक आता है जिससे लोगों को काफी परेशानी होती है। इसी कारण कालोनियों के लोगों ने सरकार को चेतावनी के लिए आज यह मार्च निकाला था।

बुराड़ी बाईपास पर इस रैली का आयोजन करने के बाद ये सभी लोग मार्च करते हुए संत नगर के नंदिनी अपार्टमेंट तक पहुंचे और यहां उन्होंने सरकार का पुतला दहन किया।

फिलहाल इन लोगों ने अपना गुस्सा तो सरकारों के खिलाफ जाहिर किया है लेकिन अब देखने वाली बात होगी कि इस तरह की आवाजें उठने के बाद भी कालोनियों में काम हो पाते हैं या नहीं।

फिलहाल तो हर चुनाव में हर राजनीतिक दल कालोनियों को पक्का करने का फायदा करता है लेकिन बीजेपी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी तीनों की सरकारें दिल्ली में रही और कोई भी सरकार कालोनियों को पक्का नहीं कर पाई है।

Leave a Reply