दिल्ली के बवाना में दिनदहाड़े सरेआम युवक की गोलियों मारकर हत्या, गुस्साए परिजनों ने शव रखकर सड़क पर किया प्रदर्शन

AA News
Report : Prabhakar Rana
लोकेशन :- बवाना, दिल्ली

राजधानी दिल्ली में क्राइम को कम करने के लिए नए साल से बने कई नये पुलिस स्टेशन के बावजूद भी अपराध कम नही हो रहा है, ताज़ा मामला दिल्ली के बवाना इलाके का है जहां आज दोपहर को सरेआम दिनदहाडे कुछ अज्ञात हमलावरों ने गोलियों मारकर हत्या कर दी, और मौके से फरार हो गए, जिसके बाद गुस्साए परिजनों और स्थानीय लोगो ने इलाके में बिगड़ती कानून व्यवस्था के खिलाफ शव को सड़क पर रखकर प्रदर्शन किया। फिलहाल पुलिस मामले की तफ़्तीश में जुट गई है।

Monu Murder Case.. Protest Puthh Khurd Road

Monu Murder Case.. Protest Puthh Khurd Road

ये तस्वीर है 22 साल के करण डबास उर्फ मोनू 22 साल की है जो अब इस दुनिया मे नही रहा है। और सड़क पर मोनू का ही शव रखकर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी और प्रदर्शन करते ये लोग दिल्ली के बवाना स्थित सुल्तान पुर डबास के निवासी हैं, जो यहाँ इलाके में बिगड़ती कानून व्यवस्था के खिलाफ गुस्से में हैं। मृतक मोनू के परिजनों ने बताया कि आज दोपहर को किसी ने मोनू को खेत पर बुलाया और उसके कुछ ही मिनटों कुछ अज्ञात बदमाशो ने उसे कई गोलियां मार दी जिसके बाद आनन फानन में परिजन उसे महर्षि वाल्मीकि अस्पतालमे भर्ती कराया गया जहां डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया।

Karan Dabas @ Monu

Karan Dabas @ Monu

मृतक के गुस्साए परिजन मोनू के शव को बाहर ही सड़क पर ले आये और घंटो तक सड़क पर जाम लगाया साथ ही पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर अपना गुस्सा जाहिर किया। परिजनों ने बताया कि वारदात के समय एक सफेद रंग की स्कोर्पियो कार तेज़ी से निकलती दिखाई दी जिसपर कोई न. आदि भी नही था। परिजनों ने बताया यहाँ इलाके में पिछले एक सप्ताह में ये तीसरी हत्या है जबकि पुलिस कोई कार्यवाही नही कर रही और अब्बी तक किसी आरोपी को नही पकड़ सकी है। गुस्साए परिजनों को समझने के लिए जिले के डीसीपी ने ओर अन्य पुलिस अधिकारियों के काफी समझने के बाद शव को सड़क से हटाया ओर डीसीपी ने लोगों को जल्द से जल्द कार्यवाही का आश्वासन दिया।

बरहाल पुलिस ने मामला दर्जकर लिया है और शव को कब्जे में लेकर पोस्ट मार्टम के लिए भिजवा दिया है। लेकिन ये अभी तक साफ नही हो पाया है कि आखिर मोनू की हत्या किसने ओर क्यों कि है। ये फिहाल जांच का विषय है लेकिन जिस तरह से दिन दहाड़े सरेआम किसी की गोली मारकर हत्या कर दी जाती है वो पुलिस की कार्यशैली पर कई सवालिया निशान खड़े करते हैं।

Leave a Reply