दिल्ली कमेटी द्वारा गुरुद्वारा नानक प्याऊ साहिब में मनाया गया गुरु नानक देव जी का ज्योति-ज्योत पर्व।

AA NEWS

DELHI

REPORT TEAM AA NEWS

गुरू नानक देव जी द्वारा दर्शाए मार्ग पर चलते हुए दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी ने लंगर की सेवा कीः हरमीत सिंह कालका

दिल्ली सिख गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के महासचिव और शिरोमणि अकाली दल की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका ने कहा कि दिल्ली गुरूद्वारा कमेटी ने गुरु नानक देव जी द्वारा दर्शाए मार्ग पर चलते हुए मानवता की सेवा के लिए लंगर छकाने का प्रयास किया है।

 

Guru dwara nanak piau

Guru dwara nanak piau

 

 

 

आज सिखों के पहले गुरु, श्री गुरु नानक देव जी के ज्योति-ज्योत दिवस के मौके पर हुए प्रोग्राम में संगत को संबोधित करते हुए स. कालका ने कहा कि गुरु साहिब ने दुनिया में सब से पहले भूखे साधुओं को लंगर छकाने के साथ लंगर प्रथा की शुरुआत की थी। उन्होंने कहा कि पूरे मानव जगत को गुरु नानक देव जी ने यह संदेश दिया था कि सभी एक ही परमात्मा की सृजना हैं।

 

 

 

 

 

स. कालका ने कहा कि गुरु साहिब के दर्शाए मार्ग पर चलते हुए ही हमने बाला प्रीतम दवाखाने की शुरुआत की है जहां रोज़ाना हज़ार की संख्या में पीड़ित सस्ती दवाईयां लेकर स्वंय का व अपने परिवार का ईलाज कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस दवा खाने की तर्ज पर हम दिल्ली के अन्य भागों में भी ऐसे दवाखाने खोलने की योजना कर रहे हैं।

 

 

 

 

 

स. कालका ने कहा कि गुरु तेग बहादुर साहिब जी का 400वां प्रकाश पर्व मनाने का विशेष प्रयास भी हम कर रहे हैं और यह पवित्र गुरुपर्व बड़े स्तर पर मनाया जायेगा। हम संगत को भी अपील करते हैं कि हमें अपने मूल्यवान सुझाव दें तांकि हम अपने कामकाज में और सुधार कर सकें।

 

 

 

 

 

उन्होंने कहा कि गुरु नानक देव जी के ज्योति-ज्योत दिवस पर गुरु घर में नतमस्तक होकर संगत ने गुरु साहिब का आर्शीवाद प्राप्त किया है और वह संगत के आगे नतमस्तक होते हैं।

 

 

 

 

 

 

इस मौके पर सुबह से दीवान सजाये गये जिसमें पंथ के प्रसिद्ध रागी जत्थों द्वारा इलाही बाणी का कीर्तन गायन किया गया। स्टेज की सेवा दिल्ली कमेटी सदस्य सरवजीत सिंह विरक और गुरदेव सिंह भोला द्वारा निभाई गई। कमेटी के संयुक्त सचिव और गुरुद्वारा नानक प्याऊ के चेयरमैन हरविंदर सिंह के.पी, सदस्य अमरजीत सिंह पिंकी, विक्रम सिंह रोहिणी, हरजीत सिंह पप्पा, रविंदर सिंह खुराना व सुखविंदर सिंह बब्बर भी मौजूद रहे।

Leave a Reply