बुराड़ी में बड़ी आग।

AA News
बुराड़ी, नई दिल्ली

Video

Video

पूरे उत्तरी भारत में पकी हुई गेहूं की फसलें हर रोज जलने की खबरें लगातार आ रही है देश का हजारों क्विंटल अनाज आग के हवाले जा रहा है। आज दिल्ली के बुराड़ी एरिया में 10 एकड़ से ज्यादा गेहूं की पकी हुई फसल जलकर राख हो गई। राहगीरों और स्थानीय निवासियों ने ट्रैक्टरों के द्वारा जलती हुई आग पर काबू पाया किसानों की मेहनत और बड़े खर्च के बाद तैयार की गई फसल जलने के बाद किसानों में मायूसी है। आग किस कारण लगी फिलहाल जांच का विषय है।

Burari Fire

Burari Fire

ये है नॉर्थ दिल्ली के बुराड़ी गांव के पास के खेत यहां देखिए 10 एकड़ से ज्यादा में राख ही राख दिखाई दे रही है और हल्का धुआं उठ रहा है दरसल यहां गेहूं की फसल पक कर तैयार थी और अचानक से गेहूं की फसल में आग लग गई जिसमें बहुत जल्दी पकी हुई फसल ने आग पकड़ी और आग काफी तेजी से आगे बढ़ रही थी स्थानीय लोगों ने ट्रैक्टरों से गेहूं की फसल में ट्रैक्टर चला दिए जिससे आग को आगे बढ़ने से रोका गया और इस तरह से लोगों की मदद से जब तक दमकल की गाड़ियां पहुंची आग पर काबू पाया। दस एकड़ से ज्यादा फसल जलकर राख हो गई । बाद में दमकल की गाड़ियां भी पहुंचे जिन्होंने आज पर आपको पूरी तरह से ठंडा किया और फिलहाल भी ठंडा करने का काम जारी है ताकि दोबारा से कोई आग की चिंगारी खेतों में न भड़के।

यहां लोगों ने सवाल दमकल विभाग और सरकारों पर भी खड़े किए हैं किसानों का कहना है कि आग हर साल लगती है और पूरी बुराड़ी विधानसभा में करीब 100 से ज्यादा कालोनियां भी बसी है पर कोई फायर स्टेशन नहीं है। दमकल की गाड़ियों को आग बुझाने के लिए रुपनगर व जहांगीरपुरी से आना पड़ता है जो काफी जाम को पार करके यहां तक पहुंचती है । आज भी लोगों का कहना है कि आग लगने के लिए और दमकल विभाग में कॉल करने के बाद करीब एक घंटे तक वह दमकल की गाड़ी का इंतजार करते रहे तब जाकर दमकल की गाड़ी पहुंची। साथ ही गेहूं के खेतों में आग लगना हर साल आम बात हो चुकी है तो क्यों नहीं सरकार की तरफ से पहले ही दमकल की गाड़ी खेतों के आसपास तैनात की जाती। जरूरत है जब गेहूं पकी हुई हो उन दिनों में दमकल की सभी गाड़ी स्टेशन में अंदर खड़ी न होकर बल्कि कुछ गाड़ियां खेतों में तैनात होनी चाहिए पर ऐसा बुराड़ी एरिया में नहीं है ।

फिलहाल इस आग पर काबू पा लिया लेकिन बड़ी मात्रा में अनाज जलकर राख हो गया साथ ही यह किसान जिनकी इतनी मेहनत की थी काफी नुकसान की वजह से कई साल तक शायद उभर न पाए क्योंकि इस तरह की दुर्घटनाओं के बाद सरकार भी कोई मुआवजा नहीं देती। पूरे देश में इस तरह गेहूं की फसल काफी मात्रा में जलकर इन दिनों में राख हो जाती है जिससे किसानों का तो नुकसान होता ही है यहां देश का अनाज भी बर्बाद होता है। जरूरत है सरकारें किसानों को भी इस तरह की स्थिति में आग बुझाने की ट्रेनिंग दें जिससे किसान खुद भी आग बुझाने में सहयोग कर सके और दमकल की गाड़ी आने से पहले उस आग पर काबू पा सके लेकिन अभी तक ऐसे ही ट्रेनिंग दिल्ली में तो ऐसी ट्रेनिंग नजर नहीं आ रही है।

Leave a Reply