देश के अलग अलग राज्यों में भी जाकर मदद करने वाली दिल्ली सरकार की CATS एम्बुलेंस अब खुद संघर्षों से जूझती रहती है

CATS Staff

CATS Staff

AA News
Anil Kumar Attri

दिल्ली में पहले 200 से भी कम कैट्स होती थी और पूरे देश मे आपदा के वक्त जाकर मदद करती थी। बिहार बाढ़ जैसे हालातो में दिल्ली से कैट्स एम्बुलेंस और स्टाफ भेजा गया था जहां दिल्ली सरकार के इस विभाग ने जो मदद की वो आज भी देश के लोग याद करते है। पर अब निजी कम्पनी को ठेका दिया गया और CATS एम्बुलेंस का बेड़ा कई गुना बढ़ गया पर दिल्ली ही सेवाओं के लिए तरसती रहती है । बार बार कैट्स की हड़ताल हो जाती है और गाड़ियां न मिलने की शिकायत आम है । अब दिल्ली में मोटर साइकिल एम्बुलेंस लाई जा रही है जो अंदर की पतली गलियों और जाम में बेहतर विकल्प होगी पर इसपर जिस स्टाफ की ड्यूटी लगाई जा रही है उसपर भी विवाद हो गया है । स्टाफ को क्या दिक्कत है वो आपको AA News बता रहा है ।

कैट्स एंबुलेंस का पुराना रेगुलर स्टाफ के करीब 150 के आसपास पैरामेडिकल हैं जिन्हें एंबुलेंसो से हटाकर अस्पतालों में या हेड क्वार्टर में तैनात कर दिया गया था। इनमें से अधिकतर की उम्र 50 साल से अधिक हो चुकी है ।
अब दिल्ली में मोटरसाइकिल एंबुलेंस आ रही है उन पर ड्यूटी नए लड़कों की न लगाकर इन 50 साल से अधिक उम्र के पुराने स्टाफ की लगाई जा रही है । पुराने स्टाफ का तर्क है कि उनमें पहले जैसी चुस्ती नहीं है जो युवा पैरामेडिकल आए हैं वे बाइकों को तेजी से दौड़ा पाएंगे।

साथ ही चार पहिए से दो या तीन पहिए पर लाने का भी स्टाफ के लोग विरोध कर रहे हैं । जब वे चार पहिए की गाड़ियों में नौकरी करते थे तो अब उन्हें दो पहिए की गाड़ी में नौकरी दी जा रही है।

मोटरसाइकिल एंबुलेंस का वजन भी काफी होगा, सामान भी काफी होगा , साथ में जब मरीज भी होगा तो 50 साल से अधिक उम्र के इन कर्मचारियों को बाइक चलाने में असुविधा होगी।

Bike Ambulance

Bike Ambulance

इसलिए इनकी मांग है कि छोटी उम्र के नए कर्मचारियों को युवा लड़कों को इन बाइक पर ड्यूटी दी जानी चाहिए जिनकी संख्या इन पुराने कर्मचारियों से कई गुना ज्यादा है लेकिन एक भी युवा को इन पर ड्यूटी नहीं दी गई है सभी पुराने लोगों को ही दी जा रही है।

फिलहाल इन पुराने कर्मचारियों ने एलजी साहब से भी इस ओर ध्यान देने की रिक्वेस्ट कर दी है
..
CATS एसोशिएशन की कॉपी आप सभी से शेयर कर रहे है

सेवा में
श्रीमान उपराज्यपाल महोदय जी,
राज निवास, शामनाथ मार्ग
दिल्ली
महोदय,
निवेदन यह है कि मैं धर्मेंद्र त्रिवेदी सहायक रोगी वाहन अधिकारी (Assistant Ambulance Officer ) कैट्स विभाग दिल्ली सरकार की कैट्स एम्बुलेंस अफसर एसोसिएशन के अध्यक्ष हूँ
कैट्स विभाग 20 अक्टूबर को FRV यानी मोटरसाइकिल एम्बुलेंस सेवा पूर्वी दिल्ली मे शुरू करने जा रहा है , जो कि अति सराहनीय विषय है ।
महोदय इस मोटरसाइकिल एम्बुलेंस सेवा को शुरू करने के लिए कैट्स प्रशाशन AAO को लगाने जा रहा है जो कि पूर्णतया गलत है, इस विषय पर सचिव महोदय स्वास्थ्य एंव परिवार कल्याण मंत्रालय, एंव डायरेक्टर महोदय से कई बार मुलाकात कर चुके हैं ओर उनोहने हमको आस्वस्त किया है कि आप लोगो को मोटरसाइकिल एम्बुलेंस पर नही लगाया जाएगा। लेकिन सहायक प्रशाशनिक अधिकारी आपरेशन हम AAO को लगाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं । हम सभी AAO की आयु 50 वर्ष या इससे अधिक की है साथ ही हमारे कुछ साथी 2019 से रिटायर्ड होने भी शुरू हो जाएंगे, ओर न ही हमारे पास लाइसेंस है मोटरसाइकिल चलाने का। हम सभी का ग्रेड पे 4800 ओर 4600 का है ।इस आयु में मोटरसाइकिल चलाना हमारे लिए मुश्किल है ।
हमने प्रशाशन को मोटरसाइकिल पर कैट्स के कॉन्ट्रैक्ट पैरामेडिक को लगाने को कहा था जिनके पास GNM की डिग्री भी है साथ ही वो 25 से 28 वर्ष की आयु के जवान हैं
हम AAO को एम्बुलेंस से वर्ष 2016 मैं कैट्स एम्बुलेंस से इसलिए हटाया गया था कि हम एम्बुलेंस सेवा Home to Hospital के लिए उपर्युक्त नही हैं जिसको दिल्ली सरकार की कैबिनेट से पास करवाकर कैट्स एम्बुलेंस सेवा को Outsource कर दिया गया एंव हम AAO को दिल्ली सरकार के विभिन्न अस्पतालों मैं मैनेजर की पोस्ट पर भेजने के आदेश किये गए थे।
डेढ वर्ष तक AAO ने अस्पतालों में सफलता पूर्वक कार्य किया लेकिन बाद मैं Outsource कंपनी BVG की हड़ताल के चलते AAO को वापस बुला लिया। अब प्रशाशन हमारी इच्छा के विरुद्ध हमे मोटरसाइकिल एम्बुलेंस पर लगाना चाहता है। जबकि कैट्स चेयरमैन एंव डायरेक्टर साहब हमारी उम्र हमारे पे स्केल को देखते हुए मोटरसाइकिल पर लगाना नही चाहते हैं ।
महोदय आपसे निवेदन है कि हमारी समस्या को देखते हुए AAO को मोटरसाइकिल एम्बुलेंस पर न लगाया जाए ।
धन्यवाद

प्रार्थी

धर्मेंद्र त्रिवेदी
अध्यक्ष
Cats Officer Welfare Association (COWA)
mail address:- dharmenderom@gmail.com

Leave a Reply