मैक्स हॉस्पिटल शालीमार बाग मामले की आज आएगी जांच रिपोर्ट


दिल्ली के मैक्स अस्पताल मामले की जांच रिपोर्ट आज आनी है और पिछले चार दिनों से धरने पर बैठा पीड़ित परिवार बीती रात काफी परेशान रहा । पीड़ित परिवार का आरोप है सर्द रात में वे पूरी रात धरने पर बैठे रहे और शाम जब यहां वे सर्दी से बचने के लिए टेंट लगाने लगे तो प्रशासन ने टेंट नही लगाने दिया । सड़क किनारे पूरी रात गुजारनी पड़ी । पीड़ित परिवार को आज जांच कमेटी की रिपोर्ट का इंतजार है क्योंकि जांच कमेटी को आज रिपोर्ट फाइल करनी है ।
फिलहाल मैक्स प्रशासन ने बीती रात उन दोनों डॉक्टर्स को टर्मिनेट कर दिया जिन्होंने जुड़वा प्री मेचौर बच्चों को मृत घोषित कर पार्सल में पैक करवा परिजनों को सौंपा दिया था ।
गौरतलब है कि मैक्स अस्पताल में साढ़े बाइस सप्ताह के दो जुड़वा बच्चों की डिलीवरी करवाई गई थी जिनमे एक बच्ची की उसी वक्त मौत हो चुकी थी दूसरा मेल बच्चा जिंदा था । कुछ घण्टे बाद डॉक्टर्स ने सूचना दी दूसरे बच्चे की भी मौत हो गई । दोनों बच्चों की डेड बॉडी पार्सल में पैक करके टेप और कागज से सील करके परिजनों को सौप दी । दोनों डेड बच्चों को परिजन घर लेकर निकले जिन्हें श्मशान घाट लेकर जाना था पर करीब चार किलोमीटर बाद जिस नाना की गोदी में दोनों बच्चों के शव थे उसे उन बन्द पैकेट में कुछ धड़कन अनुभव हुई तुरन्त परिजनों ने पार्सल फाड़कर देखा एक बच्चे की धड़कन चल रही थी । तुरन्त पास के दूसरे निजी अस्पताल में ले गए जहां बच्चा आज पांचवे दिन तक भी जीवित है पर मैक्स अस्पताल ने उसे डेड बताकर पैक करके दिया था ।
मैक्स अस्पताल द्वारा जिंदा बच्चे को मृत बताकर परिजनों को सौंपने के मामले में अस्पताल को दिल्ली पुलिस ने नोटिस भेजा है. नोटिस में अस्पताल से पूरे मामले की जानकारी मांगी गई है और पूछताछ में शामिल होने के लिए कहा है. मैक्स अस्पताल की इस लापरवाही के मामले ने तूल पकड़ लिया है. इस मामले में बच्चे के परिजन धरने पर बैठे हुए हैं. दिल्ली के मुख्यमंत्री और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने भी मामले पर रिपोर्ट मांगी है.

पीड़ित परिवार की ने मांग की है कि अस्पताल को सील किया जाए. शालीमार बाग स्थित मैक्स अस्पताल के डॉक्टरों ने जिंदा बच्चे को मृत बताकर परिजनों को पैक करके सौंप दिया पर बाद पैकेट में हलचल होने के बाद बच्चा ज़िंदा निकला इस पूरे मामले ने तूल पकड़ लिया है. दिल्ली पुलिस ने पूरे मामले में मैक्स अस्पताल के खिलाफ़ मामला दर्ज़ कर लिया है, पीड़ित परिवार मैक्स के सामने धरने पर बैठा है परिवार की मांग ही अस्पताल को सील किया जाए.
इस मामले पर अब केंद्र से लेकर दिल्ली सरकार हरकत में हैं. दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के हस्ताक्षर से जारी आदेश में कहा गया है कि उक्त घटना के सिलसिले में जांच होगी और 72 घंटे के अंदर प्रारंभिक जांच रिपोर्ट सौंपी जाएगी और एक हफ्ते के अंदर अंतिम रिपोर्ट सौंपी जाएगी. इस मामले पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कड़ी कार्रवाई करने का वादा किया है। आज आने वाली इस रिपोर्ट में क्या आता है इसका इंतजार परिवार को ही नही बल्कि पूरे देश को है।
डबल ए न्यूज़ दिल्ली
डबल ए न्यूज़

Leave a Reply