दिल्ली की आउटर जिला के स्पेशल स्टाफ ने अय्याशी के लिए लग्ज़री गाड़ी लूटने वाले गिरोह का किया भंडाफोड़, चोरी की गाड़ियों पर फर्जी नम्बर प्लेट, और पुलिस का स्टिकर लगाकर घुमाते थे गाडियाँ

AA News
रिपोर्ट :- मुकेश राणा व अनिल कुमार अत्री
लोकेशन :- आउटर डिस्ट्रिक, दिल्ली

देश की सबसे तेज़ तर्रार मानी जाने वाली दिल्ली पुलिस के आउटर डिस्ट्रिक स्टाफ को मिली बड़ी कामयाबी, लग्ज़री लाइफ और अय्याशियों को पूरा करने के लिए महंगी गाड़ियों को लूटने वाले गिरोह का भांडाफोड। एक गुप्त सूचना के बाद पुलिस ने ट्रेप लगाकर धर दबोचा। 2 नाबालिग समेत कुल 5 लुटेरों को किया गिरफ्तार। 6 लग्ज़री कारें, 4 मोटर-साइकिल समेत 15 मोबाइल फोन बरामद। पुलिस ने किया दर्जनों मामले सुलझाने का दावा।

दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में खड़े ये तीनों नकाबपोश बड़े ही शातिर बदमाश हैं। जिन्हें आउटर डिस्ट्रिक के स्पेशल स्टाफ की टीम ने गिरफ्तार किया है।

Robbers Arrest

Robbers Arrest

ज्यादा जानकारी देते हुए जिले के डीसीपी ने बताया कि स्पेशल स्टाफ को एक गुप्त सूचना मिली कि दिल्ली की सड़कों पर आम लोगो से बन्दकु की नोंक पर लग्ज़री गाड़ियां लूटने वाले गिरोह के कुछ सक्रिय बदमाश सुल्तान पूरी इलाके में आने वाले हैं। जिसके बाद पुलिस ने 2 नाबालिगों समेत 5 लोगो को इन्हें सुल्तान पूरी से ही धर दबोचा। प्राप्त जानकारी के अनुसार ये सभी दिल्ली के ही अलग अलग इलाको के रहने वाले हैं और सभी की उम्र 17 साल से 25 साल के बीच है।

ये सभी काफी कम पढ़े लिखे हैं और छोटा मोटा काम कर ते हैं। लेकिन इनकी लग्ज़री लाइफ जीने और अय्याशियों को पूरा करने की चाह की वजह इन सभी ने जुर्म का रास्ता अपना लिया और गिरोह बनाकर दिल्ली की सड़कों पर लूटपाट की वारदातों को अंजाम देने लगे।


वीडियो

जिले के डीसीपी के अनुसार इनके बारे में स्पेशल स्टाफ को इनपुट मिलने के बाद डीसीपी के आदेश के पर ACP स्पेशल स्टाफ दिनेश कुमार और इंस्पेक्टर सुखबीर मालिक के नेतृत्व में SI नवीन, रिंकू, ASI राजबीर, वीरेंद्र, हेड कॉन्स्टेबल सुरेश, प्रदीप, रूपेश समेत कांस्टेबल दलीप, मंजीत, संदीप, नवीन, अमित आदि की टीम गठित की गई। और ट्रेप लगाकर इन्हें पुलिस ने सुल्तान पूरी के जलेबी चोक इलाके से धर दबोचा।

इनसे पूछताछ में पता चला कि ये ज्यादातर रात को दिल्ली की सड़कों पर चोरी की गाड़ियों पर सवार होकर निकलते और बंदूक की नोंक पर वारदातों को अंजाम देते। और फिर इन्हें बेचकर अपनी अय्याशियों को पूरा करते थे। अभी इस गिरोह का मास्टर माइंड पुलिस की गिरफ्त से बाहर है जो कि हरियाणा के पानीपत का रहने वाला है।

इस गिरोह ने बीते अगस्त में नार्थ वेस्ट दिल्ली के शालीमार बाग इलाके से गारमेंट्स के कारोबारी से एक नई वार्ना कार को लूटा था। और उस कार पर ये बदमाश पुलिस का स्टिकर और फर्जी नम्बर प्लेट लगाकर बेधड़क सड़को पर दौड़ा रहे थे।

कार के मालिक ने बताया कि किस तरह से इन शातिर बदमाशो ने कैसे उनके साथ लूट की वारदात को अंजाम दिया था। गौरतलब है कि उस समय लूट की ये वारदात cctv कैमरे में बीबी कैद हुई थी। और आज कार के मालिक अपनी लूटी हुई कार मिलने के बाद काफी खुश हैं और पुलिस का शुक्रिया अदा कर रहे हैं।

इस गिरोह की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने दर्जनों मामले सुलझाने का दावा किया है। और ये बेशक पुलिस के लिए एक बड़ी कामियाबी है। बरहाल पुलिस सभी पकड़े गए बदमाशो से पूछताछ कर रही है। और साथ ही गिरोह के मास्टर माइंड पानीपत निवासी अनिल को पकड़ने के लिए लगातार कई जगहों पर छापेमारी कर रही है। ज़ाहिर है कि ऐसे गिरोह के पकड़े जाने के बाद आम लोगो मे पुलिस के प्रति विश्वास और बढ़ेगा।

Leave a Reply