जी.के को गुरुघर के गोलक का पैसा व जायदाद वापिस करने के लिए एक माह का समय दिया गया।

AA NEWS

NEW DELHI

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के जनरल हाउस के आज हुए अधिवेशन में एतिहासिक फैसला लेते हुए सदस्यों ने सर्वसम्मिति से गोलक चोरी के दोषों कारण मनजीत सिंह जी.के की सदस्यता को रद्द करने का फैसला लिया है।

Ms Sirsa DSGMC

Ms Sirsa DSGMC

मीटिंग के बाद इस बारे में विस्तापूर्वक जानकारी देते हुए कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने बताया कि आज जनरल हाउस का विशेष अधिवेशन बुलाया गया जिसमें पिछले हाउस में मनजीत सिंह जी.के द्वारा की गोलक चोरी मामले के बारे में जानकारी देने की हिदायत के अनुसार जी.के सहित समूचे सदस्यों को जानकारी दी गई कि मनजीत सिंह जी.के ने कुल 57-58 करोड़ रूप्ये गोलक से चोरी किये हैं। उन्होंने बताया कि मनजीत सिंह जी.के ने जहां अलग-अलग समय पर 80 लाख रूपये, 50 लाख, 51 लाख रूपये, 30 लाख रूपये, 13 लाख 65 हज़ार रूपये, वहीं उनके ससुराल परिवार द्वारा जो जायदाद गुरुद्वारा कमेटी को दी गई थीं, उसमें से आधी अपने नाम करवा ली ।

श्री सिरसा ने बताया कि मनजीत सिंह जी.के ने अपने ससुराल परिवार द्वारा ‘विल्ल‘ के कागज कमेटी से चोरी कर लिये थे व अदालत में यह बताया कि परिवार आधी जायदाद वापिस लेना चाहता है जिसमें उन्होंने 100 करोड़ रूपये में से आधी यानि 50 करोड़ रूपये की जायदाद अपने नाम पर करवा ली। उन्होंने बताया कि यही नहीं बल्कि मनजीत सिंह जी.के ने अपने आदरणीय पिता स. संतोख सिंह के नाम पर भी पैसे निकलवाये व अपनी बेटी के नाम पर भी पैसे निकलवाये।

उन्होंने बताया कि इस के अलावा प्रिटिंग के लिए दिये गये 1 लाख डाॅलर, मुलाज़िमों की वर्दियों के लिए एक परिवार द्वारा दिये 44 लाख रुपये और विदेशों में फंड देने के बहाने कमेटी के खातों से 1 लाख डाॅलर भी जी.के ने चोरी किये हैं।

उन्होंने बताया कि आज की मीटिंग में 24 बिन्दूओं पर पूरे विस्तार से 2 घंटे विचार विमर्श हुआ व सत्ता पक्ष और विरोधी पक्ष के सदस्यों द्वारा जिसमें करतार सिंह विक्की, बलदेव सिंह रानी बाग, कुलतारण सिंह, तलविंदर सिंह मारवा ने भी सहमति दी कि जी.के को ऐसी सज़ा दी जाये जो उसे पूरी उम्र याद रहे। उन्होंने कहा कि गुरुद्वारा कमेटी के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि पूर्व अध्यक्ष व मौजूदा सदस्य को गोलक चोरी के दोषों में सदस्यता से खारिज किया गया है।

सवालों का जवाब देते हुए श्री सिरसा ने कहा कि हाउस ने यह भी फैसला किया है कि मनजीत सिंह जी.के द्वारा की गोलक चोरियों के बारे में बोर्ड बनवा कर सभी गुरुद्वारा साहिबान के बाहर लगाये जायें व पूरी सिंह सभाओं को भी ऐसे ही बोर्ड बना कर स्थानीय गुरुद्वारा साहिब के बाहर लगाये जाने की बेनती की जाये तांकि संगत को गोलक चोरी का सारा सच पता लग सके। उन्होंने कहा कि आज अधिवेशन के दौरान मनजीत सिंह जी.के के भाई हरजीत सिंह आये थे व सदस्यों ने कहा कि जनरल हाउस इंतज़ार करने के लिए तैयार हैं आप मनजीत सिंह जी.के को बुला लो, हम पक्ष सुनने के लिए तैयार हैं पर सदस्यों के सवाल सुन कर जवाब देने की बजाये वह बीच में ही छोड़ की चले गये।

दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष ने बताया कि जनरल हाउस ने मनजीत सिंह जी.के को एक महीने की मोहलत दी है कि वह कमेटी की जायदाद वापिस कमेटी के नाम पर करवाने व चोरी किया गोलक का पैसा वापिस जमा करवा दें। अगर वह ऐसा नहीं करे तो फिर कमेटी अदालत के पास पहुंच कर उनकी जायदाद कुड़क कर गुरुद्वारा कमेटी के पैसे वसूलने के लिए अपील करेगी।
इस दौरान कमेटी के महासचिव श्री हरमीत सिंह कालका ने बताया कि बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि आज सभी सदस्य आये हैं व सिर्फ मनजीत सिंह जी.के ही नहीं आये जिन्हें अपना पक्ष रखने का बार-बार मौका दिया गया। पूरे सदस्यों ने एकजुट हो कर फैसला किया कि जो व्यक्ति अपने पर लगे दोषों का जवाब नहीं दे रहा, उसकी सदस्यता खारिज की जाये। कमेटी की मोहलत के अनुसार अगर जी.के ने जायदाद व पैसे वापिस ना किये तो फिर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जायेगी।

Leave a Reply