दिल्ली की धाकड़ छोरी

AA News
रोहिणी , नई दिल्ली

बीती रात दिल्ली के रोहिणी में सरेराह एक लड़की से मोबाइल स्नैचिंग की कोशिश स्कूटी पर सवार दो लड़कों ने की। लड़की ने बहादुरी दिखाते हुए मोबाइल नहीं छीनने दिया बल्कि स्कूटी सवार स्नैचर्स को गिरा कर पकड़ लिया। लड़की चिल्लाई आसपास के पब्लिक भाग कर आई तो दोनो सैनेचर्स वहां से भाग गए । लेकिन स्कूटी वहीं पर गिरी रह गई इस दौरान स्नैचर्स ने लड़की पर हमला करके स्कूटरी को भी ले जाने की कोशिश की लेकिन भीड़ ज्यादा आने के कारण वे इसमे कामयाब नहीं हो पाए इसके बाद लड़की ने पुलिस कॉल की लेकिन हैरान करने वाली बात यह हुई यह रही कि आध घण्टे बाद पुलिस आई और एक घंटे तक कोई भी लोकल पुलिस से नही आया।
इस खबर का ये वीडियो देखिये
वीडियो

वीडियो

बीती रात दिल्ली के रोहिणी में लड़की ने तो बहादुरी दिखाई लेकिन दिल्ली पुलिस पर कई सवाल खड़े हुए। दिल्ली पुलिस ने कितना सहयोग किया वह सब देखकर आप चौक जायेंगे। दरअसल शुक्रवार देर शाम करीब 9:30 बजे रोहिणी सेक्टर 4 में गीतू शर्मा अपने ऑफिस से घर के पास पहुंच चुकी थी कुछ ही दूरी पर लड़की का घर था तभी एक स्कूटी पर सवार दो स्नैचर्स ने लड़की का मोबाइल छीनना चाहा। लड़की ने मोबाइल नहीं छोड़ा बल्कि पीछे बैठे स्नैचर्स को खींचा और पकड़ लिया जिससे स्कूटी भी डिसबैलेंस होकर गिर गई और लड़की चिल्लाने लगी। आसपास के लोग भी भागकर आये। शुरुआत में स्नैचर्स ने पत्थर से हमला करने की कोशिश की और लड़की से छुड़वाने की कोशिश की इसी बीच ज्यादा भीड़ को आता देख कर स्नैचर्स दोनों वहां से भाग गए और स्कूटी वही पर रह गई स्कूटी छूटने के बाद लड़की गीतू शर्मा ने सौ नंबर पर कॉल की। एक नहीं कई बार को लगातार की लेकिन आरोप है कि करीब आध घंटे में पी सी आर आई और नई लोकल पुलिस एक घण्टे बाद आई घटना। घटना लड़की के साथ थी उसके बावजूद भी पुलिस का इतनी देर तक नहीं आना कई सवाल खड़े करता है।

गीतू शर्मा और परिवार का कहना है कि 1 घंटे बाद आई लोकल पुलिस ने भी ज्यादा दिलचस्पी केस में नहीं दिखाई और इसे छोटी मोटी वारदात कहा और कहा कि इस तरह के मामले होते रहते हैं। इस से साफ है दिल्ली पुलिस सैनेचर्स के मामले को हल्के में लेती है। आगे चलकर ये सैनेचर्स मौका मिलने पर बड़े क्राइम को भी अंजाम देते हैं। स्कूटी के पकड़ कर दिए जाने के बाद इस पीड़ित परिवार को पुलिस का यही आश्वासन था कि यदि स्कूटी चोरी की हुई तो वे कुछ नहीं कर पाएंगे और यदि स्कूटी उन्ही सैनेचर्स की हुई तो उनको पकड़ लिया जाएगा।

सवाल इस तरह के मामलों में यह खड़े होते हैं कि इस तरह सरेआम किसी की चैन या मोबाइल को लूटते हैं और हमला भी करते हैं ऐसे में उनके ऊपर स्नैचिंग की धाराएं लगाई जाती है जिससे वह जल्दी ही बाहर आते हैं और उन पर कानूनी कार्रवाई हल्की धाराओं में होती है। इस मुद्दे को लेकर कई याचिकाएं भी कोर्ट में फिलहाल लगी हुई है कि ऐसे मामले में स्नेचिंग की हल्की धाराएं न लगाकर बल्कि लूटपाट की धाराएं लगाई जाए क्योंकि इस तरह सरेआम किसी की चेन छीनने या मोबाइल छीनना उसे लूट करना ही है। फिलहाल अब देखने वाली बात होगी कि इस मामले में दिल्ली पुलिस लूट की धाराएं लगाती है या स्नेचिंग की हल्की धाराओं में ये लड़के फिर कानून से बच जाएंगे और इस तरह की वारदातों को अंजाम देते रहेंगे। फिलहाल अभी तक स्कूटी विजय विहार थाना पुलिस के कब्जे में है और सैनेचर्स पुलिस पकड़ से बाहर है ।

Leave a Reply