दिल्ली के बाबुजगजीवन राम हॉस्पिटल में हंगामा और CCTV में तोड़फोड़, हंगामा और मारपीट

BJRM

BJRM

AA News

दिल्ली के बाबुजगजीवन राम हॉस्पिटल में हंगामा और CCTV में तोड़फोड़, हंगामा और मारपीट सब कैद। मरीज के मौत के बाद परिजनों ने किया हंगामा । डॉ और हॉस्पिटल के स्टॉप के साथ की मारपीट और तोड़फोड़।हॉस्पिटल के कई स्टॉप को आई चोटें सभी डॉ हॉस्पिटल स्टॉप हड़ताल पर। भारी पुलिस बल मौके पर और आला अधिकारी मौके पर मामले की जाँच में जुटे।

डॉक्टरों की लापरवाही से मरीज की मौत के आरोप के बाद हंगामा। बाबू जगजीवन राम अस्पताल में डॉक्टर समेत करीब पांच घायल। पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों की फुटेज ली कब्जे में लेकर जांच शुरू की। डॉक्टर हड़ताल पर गए,सुरक्षा की मांग की। ये तोड़फोड़ हंगामा है दिल्ली के बाबू जगजीवनराम अस्पताल में ।

दरअसल अस्पताल में मरीज की मौत के बाद परिजनों ने तोडफ़ोडक़र उग्र हंगामा किया। जिसमें एक डॉक्टर समेत चार से पांच लोग घायल हो गए। लाखों का सामान क्षतिग्रस्त हो गया। हंगामे के बीच डॉक्टर,नर्स व अन्य स्टॉफ अपनी जान बचाने के लिए इधर उधर भागता रहा। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लोगों को काफी मुश्किल से शांत किया।

घायलों का उपचार कर उनके बयान दर्ज किये गए। हंगामे के बाद अस्पताल के डॉक्टर हड़ताल पर चले गए। जिनका कहना था कि वह मरीज की जान लेने के लिए नहीं बल्कि बचाने की कोशिश करते हैं। उनको सरकार सुरक्षा मौहय्या कराए। पुलिस मामला दर्ज कर अस्पताल में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालकर रही है।

जानकारी के मुताबिक शुक्रवार शाम को पुलिस कंट्रोल रूम को बाबू जगजीवन राम अस्पताल में तोडफ़ोड़ होने की सूचना मिली। पुलिस मौके पर पहुंची। लोगों को अन्य पुलिस बल की सहायता से शांत कराया गया।

जबकि डॉक्टर आतिल गार्ड देवराज समेत करीब पांच लोगों का उपचार कराया गया। डॉक्टर आतिल का एक दांत टूटा,जबकि देवराज और एक अन्य गार्ड गौरव के सिर में चोट लगी। जबकि एक स्वीपर के पेट में डंडा लगने से उसको खून की उल्टी तक हुई। परिजनों ने पुलिस को बताया कि राजेश सोनी परिवार के साथ के ब्लॉक जहांगीरपुरी इलाके में रहता है। वह हार्ट पेंशन से पिछले कुछ सालों से ग्रस्त था। करीब एक साल से उसका ईलाज राम मनोहर लोहिया अस्पताल से चल रहा था।

शुक्रवार सुबह राजेश को अस्पताल लाया गया था। डॉक्टरों ने दोपहर को हालत गंभीर होने के बावजूद घर भेज दिया। शाम को राजेश की हालत बिगड़ता देखकर वापिस अस्पताल लाया गया। यहां पर डॉक्टरों ने उसको देखा भी था। लेकिन ईलाज में लापरवाही बरतते गए। जिससे राजेश की मौत हो गई। अस्पताल सूत्रों ने बताया कि राजेश की मौत के बाद अचानक 25 से 30 लोग अचानक अस्पताल में दौड़ते हुए आए और डंडे उठाकर शीशे आदि तोडऩे लगे।
वीडियो में देखें तोड़फोड़

वीडियो

वहां पर रखे अन्य सामान को तोडऩे लगे। जो भी उनको समझाने आया उसकी बुरी तरह से पिटाई की। डॉक्टर व अन्य स्टॉफ बचने के लिए इधर उधर भाग रहे थे। पुलिस के आने के बाद भी मरीज के परिजन उनके सामने भी तोडफ़ोड़ कर रहे थे।

Leave a Reply