दिल्ली में PWD के नाले में डूबा युवक और मौत

AA News
Samaypur Badali

शुक्रवार शाम बारिस में खुले नाले में गिरा था युवक और तीन घण्टे बाद गंदगी और पानी से भरे नाले से निकाला गया शव ।

घटना दिल्ली के बादली विधानसभा में लिबासपुर की ।

एक मौत के बाद PWD विभाग के कर्मचारी आज इस नाले को ढकने में जुटे।

Samaypur Badali

Samaypur Badali


दिल्ली सरकार के PWD के नाले में डूबने से एक युवक की मौत। मानसून की पहली बारिश में ही सरकारी इंतजामों की पोल खुल गई है । बादली इलाके के लिबासपुर में दिल्ली सरकार के पीडब्ल्यूडी के बड़े नाले को कई जगह ऊपर से ढका नहीं गया था नाले के अंदर काफी गंदगी पन्ने और कूड़ा करकट भरा हुआ था। सामान के साथ निकला घर से बस स्टैंड के लिए एक शख्स जब नाले के ऊपर से चलने लगा क्योंकि गली के अंदर काफी पानी भर चुका था। नाले में अचानक एक जगह से नाला खुला था वहां पांव जाने से वह उस नाले में गिर गया आसपास के लोग भागे मशक्कत की लेकिन जब तक तेज बहाव में वह आगे बह गया और नाले की गंदगी में फंस गया। करीब 2 घंटे तक भी उस शख्स को नहीं निकाला जा सका। दमकल विभाग के कर्मचारियों ने नाला तोड़कर मशक्कत के बाद 3 घंटे बाद उस शख्स को बाहर निकाला गया जिसकी मौत हो चुकी थी।

मृतक की पहचान पवन के रुप में हुई है। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जहांगीरपुरी के बाबू जगजीवन राम अस्पताल में रखवा दिया है और लापरवाही से मौत की धाराओं में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। नाला लोक निर्माण विभाग का है। छब्बीस साल का पवन मूल रुप से उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले के कोंडा गांव के रहने वाले थे। वह समयपुर बादली इलाके के लिबासपुर चौक स्थित रामा स्वीट्स में काम करते थे। इस दुकान में उनका छोटा भाई नवीन भी काम करता हैं। पवन दोपहर में रामा स्वीट़स से अपने गांव जाने के लिए निकले थे। ऐसे में रेलवे स्टेशन जाने के लिए सवारी पकड़ने के लिए पैदल ही बस स्टैंड की तरफ जा रहे थे। करीब साढ़े तीन बजे वह समयपुर छोटा चौक स्थित राधा कृष्ण मंदिर के पास पहुंचे तो दोपहर में हुई बारिश के कारण सड़क पर पानी भरा था। ऐसे में सड़क के किनारे चलने लगे, तभी वह सड़क किनारे खुले नाले में जा गिरे। करीब पांच फीट गहरे नाले में लबालब पानी भरा था। आसपास के लोगों ने उन्हें नाले में गिरते देखा तो शोर मचाया और मामले की सूचना तुंरत रामा स्वीट़स के मालिक मुकेश को दी गई। सूचना पर मुकेश व पवन के छोटे भाई मौके पर पहुंच गए। इस बीच मामले की जानकारी पुलिस को दी गई। इसके मुकेश ने जेसीबी मंगवाकर नाले को तुड़वाया और पवन को बाहर निकाला गया। उन्हें तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उन्हें मृत घोषतत कर दिया गया। पुलिस की जांच में नवीन ने पवन की पहचान की।

ये शक्कन सफाई के लिए खोले गए थे। इलाके के लोगों ने बताया कि शुक्रवार को ही सफाई कर्मियों ने नाले की सफाई कार्य शुरू किया था। इसके लिए नाले के ढक्कन को खोला गया था। बारिश हो जाने के कारण सड़क पर पानी भर गया तो सफाई कर्मियों ने नाले को बंद नहीं किया था। जिसके कारण पानी के अंदर खुले नाले को पवन नहीं देख सके थे। जिस समय यह हादसा हुआ, उस समय वहां सफाई कर्मी भी मौजूद थे, लेकिन उन्होंने पवन को बाहर निकालने के बदले वहां से भाग गए। इलाके के लोगों ने कहा कि इस नाला कई और जगहों पर भी खुला हुआ है। जिससे हादसे का खतरा बना हुआ है। अब इस घटना के बाद नाले पर ढक्कन रखने का काम जारी है । यदि प्रशाशन पहले से ही नाले की सफाई कर उनपर ढक्कन रखने का काम कर देता तो एक युवक की जान बच सकती थी । इस मामले यहां आम आदमी पार्टी के विधायक अजेश यादव से बात करनी चाही तो वे कार्यलय पर नही मिले साथ ही इन जनता के प्रतिनिधि के दोनो मोबाइल नम्बर भी बन्द थे ।
नाले का वीडियो

वीडियो
ये मामला केवल इस इलाके का ही नही है पूरी दिल्ली में जगह जगह इस तरह के घटनाये हो सकती है। यदि PWD मुस्तैद होता तो ये मौत शायद नही होती ।

Leave a Reply