दिल्ली रिठाला मेट्रो पर थी मोक ड्रिल अफवाहों से बचे

लोकेशन :- रिठाला मेट्रो स्टेशन (रोहिणी, दिल्ली )
रिपोर्ट – प्रभाकर राणा
देश की राजधानी दिल्ली में शुक्रवार की सुबह दिल्ली में जगह जगह प्रशासन की तरफ से आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए मोक ड्रील आयोजित की गई जिमसें दिल्ली की तमाम सरकारी एजेंसियों जैसे पुलिस, दमकल, कैट्स एम्बुलेंस, CISF, सिविल डिफेंस आदि ने हिस्सा लिया और अपनी अपनी क्षमता व कार्यशैली का परिचय देते हुए किसी भी अप्रिय घटना में राहत कार्य करने का डेमोस्ट्रेशन किया ।अफरा तफरी की ये तस्वीरें दिल्ली के रिठाला मेट्रो स्टेशन की हैं जहां शुक्रवार सुबह करीब 10:30 बजे अचानक से भूकंप आने पर मैट्रो स्टेशन की लिफ्ट कोलैप्स होने की सूचना पुलिस कंट्रोल रूम और डिजास्टर मैनेजमेंट को मिली जिसके बाद तमाम सरकारी एजेंसियां जैसे पुलिस, दमकल, एबुलेंस, सिविल डिफेंस, CISF, और अन्य कई दस्ते राहत व बचाव कार्य के लिए घटना स्थल पर पहुँचे । हम आपको फिर बता दें कि ये सिर्फ एक
मोक ड्रिल है कृपया इसे असली मानकर भ्रमित न हों । जिसके बाद घटना स्थल पर सभी एजेंसियां वहां घायल हुए लोगो को निकल कर एम्बुलेंस आदि में शिफ्ट करने लगे जिन्हें आप तस्वीरों में साफ देख सकते हैं । किस तरह से दमकल कर्मी और सिविल डिफेंस के लोग राहत और बचाव कार्य मे जूट हुए हैं । वहीं दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस और ट्रफिक पुलिस के कर्मी भी भीड़भाड़ और ट्रैफिक को घटना स्थल से हटा रहे हैं और अफरा तफरी को कम कर रहे हैं ।
किस तरह से लोग इस भूकम्प में यहां घायल होए हैं और दर्द से चिल्ला रहे हैं ओर किस तरह की भयानक मंज़र नज़र आ रहा है । ऐसी मौक ड्रिल्स का उद्देश्य आम लोगो को विचलित करना या डर का माहौल बनाना बिल्कुल नही है बल्कि उनमें जागरूकता फैलाना है कि ऐसी किसी भी तरह की अप्रिय व आपातकालीन स्थिति में किस तरह से निपटना चाहिए । और ऐसे समय मे कैसी स्थिति हो सकती है इस सब को वास्तविकता के रूप में दिखने ओर समझने की कोशिश करना है साथ ही ऐसी मोक ड्रिल से ऐसे समय में सहयोग करने वाली और हिस्सा लेने वाली सभी एजेंसियों को अपनी कमी आदि का भी पता चल जाता है जिससे कि वो भविष्य के लिए उसमें सुधार कर सके । देश मे आतंकी हमले बम ब्लास्ट आदि की संभावनाओं के लिए समय समय पर लगातार हमारी सुरक्षा एजेंसीज अलर्ट जारी करती रहती है लेकिन प्राकृतिक आपदाओं के बारे में हमें पहले से कोई जानकारी नही होती फिर भले ही हमारी तकनीकी और हम कितने भी अत्याधुनिक हो चुके हों लेकिन आज भी कई ऐसी स्थिति हैं जिसके विषय मे हम पहले से कोई अंदाज़ भी नही लगा सकते । प्रशासन द्वारा समय समय पर ऐसी मोक ड्रिल स्थितियां बदल बदल कर कराई जाती रहती हैं लेकिन ऐसे में ये कितनी कारगर साबित होंगी ये तो आने वाला वक़्त ही बताएगा । फिर जरूरत है कि हम खुद ही जहां तक हो सके छोटी छोटी सावधानियां बरते ताकि कोई अप्रिय घटना ने हो ।

Leave a Reply