दिल्ली में एशिया की सबसे बड़ी सब्जी मंडी आजादपुर में आज व्यापारियों की हडताल की वजह से काफी काम रहा बाधित

AA News
Ajadpur Mandi Delhi
दिल्ली में एशिया की सबसे बड़ी सब्जी मंडी आजादपुर में आज व्यापारियों की हडताल की वजह से काफी काम बाधित रहा व्यापारियों की बड़ी संख्या हडताल का समर्थन कर रही थी तो एक बड़ा गुट इस हडताल के विरोध में है .. आज दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता बिजेंद्र गुप्ता पहुंचे और हडताल का समाधान न निकाल पाने के लिए दिल्ली सरकार को जिम्मेदार ठहराया .. आजादपुर सब्जी मंडी में आज से अनिश्चित्कालीन हडताल है तो आज पहले दिन मिलाजुला असर दिखाई दिया .. आधी मंडी में काम हुआ तो आधी मंडी हडताल में शामिल रही .. शुरू के दिन को देखकर आशंका है कल अधिकातर मंडी हडताल से बाहर हो सकती है … आधे व्यापारियों का कहना है की जो किशान सब्जी लेकर यहा आ गया उसकी सब्जी खराब होगी तो किसान क्या करेंगे इसलिए कुछ व्यापारियों ने किसानो की सब्जियां आज भी खरीदी और आरोप लगाया की हडताली नेता खुद मंडी कैमेटी के मेम्बर है और इनकी आपसी खींचतान में किसानो का नुकशान हो रहा है …
दूसरी तरफ हड़ताली कारोबारी एपीएमसी प्रशासन पर भ्र्ष्टाचार और मनमानी का आरोप लगा रहे है —इनका कहना है की मंडी में लूटपाट , चोरी, सफाई व्यवस्था का हाल बुरा है –जब तक इनकी इनकी मांगे नहीं मानी जाती तब तक हड़ताल पर रहेंगे — मंडी के मुख्य गेट के सामने मंडी के कई संघठन और नेता सुबह से ही सभा की शक्ल में जमा थे और एपीएमसी प्रशासन पर भ्र्ष्टाचार के आरोप लगाकर दोषी अधिकारीयों के खिलाफ करवाई की मांग कर रहे थे –इनका कहना है की मंडी ट्रकों से अवैध वसूली की जाती है –पुराने काम करने वालों के फड़ मनमाने तरीके से दूसरों को दिए जा रहे है –लूट पाट की घटनाएं आम है लेकिन एपीएससी प्रशाशन और पुलिस आँखे मूंदे बैठी है –कारोबारियों ने सरकार चेतावनी देते हुए कहा की यदि कारोबारियों से बात नहीं की तो दिल्ली की चारो मंडियों के कारोबारी हड़ताल पर होंगे —आज़ाद पुर मंडी में 13 दिन से चल रही यह हड़ताल पर राजनैतिक रूप भी ले चुकी है –आज मंडी में इनका समर्थन करने विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता भी पहुंचे –विजेंद्र गुप्ता ने कहा की यदि एपीएमसी आदेश का पालन नहीं का रहा है तो यह सरकार के साथ लेन देन का मामला है –
आज़ाद पुर मंडी में समस्याओं का अम्बार है –यही वजह है की इस हड़ताल पर प्रदर्शन में कारोबारियों और मजदूर बड़ी संख्या में शामिल है –बावजूद इसके एक बड़ा तबका इस हड़ताल में शामिल नहीं है –इस प्रदर्शन में बीजेपी नेताओं के शामिल होने से यह लड़ाई लम्बी चलने के आसार बन गयें है , मंडी का यह माहौल आम कारोबारियों और किसानों के लिए तो दिक्कत पैदा करेगा है साथ ही इस प्रदर्शन यदि बाकी मंडियां भी शामिल हुयी तो सब्जी और फलों की कीमतें भी बढ़ सकती है —
अनिल अत्री दिल्ली

Leave a Reply