नरेला में लाखों में आये पानी के बिल, आमरण अनशन पर बैठे परिवार।

AA News
नरेला, नई दिल्ली।

वीडियो

वीडियो

दिल्ली सरकार के फ्री पानी के प्रचार की नरेला में खुली पोल। छे परिवारों के पानी के बिल एक लाख से ज्यादा आये।
दिल्ली के नरेला में छे गरीब परिवार बच्चों के साथ आमरण अनशन पर दिल्ली सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे। इन परिवार के पानी के बिल एक लाख से ज्यादा के आए हैं। सन 2016 में केजरीवाल सरकार के दौरान इन्होंने पानी के कनेक्शन लिए थे और लगातार बिल भी भरते हुए आ रहे थे। इनका बिल तीन से चार हजार आता था लेकिन इस बार इनके पानी का बिल एक लाख से ज्यादा का आया। ये सभी परिवार एक बुजुर्ग शख्स के हैं जिसकी उम्र 85 साल है। बीमार बुजुर्ग भी इस बीमारी की हालत में चारपाई पर धरने पर बिना जल ग्रहण किए लेटे हैं इनका कहना है कि जब तक इन बिलो का समाधान नहीं होगा हम अन्न जल नही लेंगे। इसी दौरान बीजेपी ने भी इस परिवार का समर्थन करते हुए बीजेपी के पूर्व विधायक और जिला अध्यक्ष साथ में बीजेपी के स्थानीय निगम पार्षद इस परिवार के साथ धरने पर बैठ गए और केजरीवाल के खिलाफ नारेबाजी भी की।
2nd वीडियो

वीडियो

यह है नरेला अनाज मंडी के पास की गली या इस गली में रहने वाले 6 परिवारों के लोग आमरण अनशन पर बैठे हैं। साथ ही परिवार के 85 साल के बुजुर्ग मुखिया भी बिना कुछ खाए पिए ही बीमारी की हालत में चारपाई पर लेट कर यहां अनशन में शामिल है। इस परिवार के बच्चे भी अनशन पर बैठे हैं इनका कहना है कि पूरा परिवार अनशन पर रहेगा जब तक उनके पानी के बिलों का समाधान नहीं होगा दरअसल इस परिवार ने इस परिवार के छह घर अलग-अलग हैं सभी के पावर ऑफ अटॉर्नी भी अलग अलग है । सभी गरीब परिवार है जो मूंगफली और चना बेचकर अपना पुश्तैनी काम करते हुए गुजारा कर रहे थे लेकिन 2016 में इन्होंने अपनी अपनी पानी की फाइलें लगाकर पानी के कनेक्शन लिए। कनेक्शन लेने के बाद ये लोग लगातार पानी का बिल भी भरते आ रहे थे लेकिन इस बार अचानक पानी का बिल एक लाख से ज्यादा आया किसी परिवार का एक लाख छे हजार तो किसी का एक लाख इक्कीस हजार रुपए तक का पानी का बिल आया जो यह परिवार किसी भी तरह पेमेंट करने में काबिल नही है। पानी का बिल कैसे आया इसके लिए इन्होंने जल बोर्ड से बात भी की लेकिन इनका आरोप है कि सिर्फ एक ही बात कही गई कि इन्हें पानी का यह बिल भरना पड़ेगा उसका कोई दूसरा समाधान नहीं है।
3rd वीडियो

वीडियो

जब इस समस्या का कोई समाधान नहीं हुआ तो परिवार की एक महिला ने गरीबी में तंगी के कारण सुसाइड की कोशिश की जिसे वक्त रहते सम्भाल पाने के कारण अस्पताल ले जाया गया और बचा लिया गया।
4th वीडियो

वीडियो

अपनी समस्या को लेकर ये परिवार हर नेता के दरवाजे पर जा रहा है और गिड़गिड़ा रहा है कि इनके पानी के बिल का समाधान किया जाए वह इतना बिल गरीब लोग हैं नहीं भर पाएंगे। जब पूरा डेवलपमेंट वे भर चुके हैं जल बोर्ड कनेक्शन दे चुका है और 2016 से ही बहुत पानी का बिल भी लगातार भर रहे हैं। अचानक से कुछ और डेवलपमेंट जुड़कर आना इनकी कैपेसिटी से बाहर है। इसी कारण यह परिवार आखिरकार समाधान न होने के बाद आज नरेला में अपने घरों के सामने धरने पर परिवार बच्चों सहित धरने पर बैठ गया। परिवार का कहना है कि जब तक उनकी समस्या का समाधान नहीं होगा धरना जारी रहेगा।

जब परिवार धरने पर बैठा तो दिल्ली बीजेपी ने इस परिवार के लोगों का समर्थन किया और बीजेपी के पूर्व विधायक और जिला अध्यक्ष नील दमन खत्री व स्थानीय निगम पार्षद इन लोगों के समर्थन में आए। अब BJP के स्थानीय नेता इस परिवार के साथ धरने पर बैठ गए हैं और उनका कहना है कि केजरीवाल सरकार पूरे भारत में इस बात का प्रचार कर रही है कि उन्होंने दिल्ली में पानी माफ कर दिया बल्कि असली हालात यह है कि लोग किस तरह से इनके नाजायज बिलो के शिकार हो रहे हैं और त्राहि त्राहि कर रहे हैं। कहीं ना कहीं BJP भी इस मुद्दे को पूरी तरह भुनाने के लिए तैयार है। जिन 20 विधानसभाओ में उपचुनाव की संभावना है नरेला भी उन में से एक है जिसका फायदा लेने के लिए BJP आज इन पीड़ित परिवारों के समर्थन में खुलकर उतर आई।

Narela Protest

Narela Protest

अभी तक पीड़ित परिवार को कोई राहत मिलने की संभावना नजर नहीं आ रही और इनका कहना है कि जब तक इनके बिलों का समाधान नहीं होगा यह इसी तरह अनशन पर बैठे रहेंगे। इस बारे में दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारी तो सामने नही आये पर ऑफ कैमरा बताया कि पूरा प्लाट ऑन रिकॉर्ड एक शख्स के नाम है इसका कोई समाधान नही । केजरीवाल सरकार से ये परिवार अब पूरी तरह ना खुश है साथ ही BJP का भी कहना है कि वह इस मुद्दे पर इनकी आवाज को पूरे दिल्ली स्तर पर उठाएंगे और जब तक इनके गरीब परिवारों के पानी के बिलों का समाधान नहीं होगा वह इनका पूरा साथ देंगे और जगह-जगह धरना प्रदर्शन करेंगे। अब देखने वाली बात होगी कि दिल्ली जल बोर्ड के आला अधिकारी इस समस्या की तरफ कोई ध्यान देते हैं या नहीं।

Leave a Reply