दिल्ली के शालीमार बाग स्थित मैक्स हॉस्पिटल के लाइसेंस रद्द के बाद आज पुराने जो आपरेशन पहले से जारी शेड्यूल में थे उनके लिए दोबारा से ऑपेरशन थियेटर चालू होने से मरीज और तीमारदारों ने राहत की सांस ली

दिल्ली के शालीमार बाग स्थित मैक्स हॉस्पिटल के लाइसेंस रद्द के बाद आज पुराने जो आपरेशन पहले से जारी शेड्यूल में थे उनके लिए दोबारा से ऑपेरशन थियेटर चालू होने से मरीज और तीमारदारों ने राहत की सांस ली । यहां कुछ मरीज और तीमारदार EWS कोटे से इलाज करवाने वाले भी मिले जो अस्पताल के सिस्टम से पूरी तरह खुश थे और सरकार से पूरे अस्पताल सिस्टम को फिर से चालू करने की गुहार लगा रहे हैं ।
दरअसल, केजरीवाल सरकार के लाइसेंस रद्द करने के आदेश के बाद अस्पताल ने अपील की थी, जिसके बाद हायर अथॉरटी का यह फैसला आया है। वहीं, मैक्स हेल्थकेयर अथोरिटीज का कहना है कि हम हमारे मरीजों को उच्च क्वालिटी की सुविधाएं देने पर फोकस करेंगे

मैक्स हॉस्पिटल की तरफ से जारी किये गए एक बयान में कहा गया है कि उपयुक्त अपीलीय संस्था ने लाइसेंस रद्द किए जाने के फैसले पर रोक में हॉस्पिटल अपने ऑपरेशन्स को दोबारा शुरू कर रहा है। बयान में कहा गया है, हम गुणवत्ता के साथ मरीजों को स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध करा रहे हैं और समाज में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों की मुफ्त चिकित्सा की अपनी प्रतबद्धता को पूरा कर रहे हैं।

दिल्ली सरकार ने हॉस्पिटल के लाइसेंस को इसी महीने रद्द कर दिया था। हॉस्पिटल पर आरोप था कि जुड़वा नवजात बच्चे में से एक जीवित बच्चे को भी मृत घोषित कर दिया था, जबकि वो एक सप्ताह जीवित रहा और एक हफ्ते बाद उसकी मृत्यु मेडिकल कारणों से हुई। हालांकि इस मामले पर दिल्ली स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि उन्हें ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है और कानूनी विभाग इस संबंध में देखेगा। दूसरी तरफ, दिल्ली के एलजी की तरफ से जारी एक बयान में भी कहा गया है कि मैक्स हॉस्पिटल के लाइसेंस का मामला उनके पास नहीं है और यह कोर्ट के सामने है। साथ ही, यह भी कहा है कि मैक्स हॉस्पिटल से जुड़े अधिकारियों की मुलाकात एलजी से नहीं हुई है।
दरअसल मैक्स अस्पताल शालीमार बाग अस्पताल में जीन दो जुड़ावा बच्चो को मृत बताकर और पार्सल में पैक करके दिया था उनमे से एक बच्चा जिंदा था जो बाद में अस्पताल से बॉडी ले जाने के बाद परिजनों को मालूम पड़ा । जांच में अस्पताल दोषी पाया गया और दिल्ली सरकार ने कड़ी कार्रवाई करते हुए अस्पताल का लाइसेंस रद्द कर दिया था अब इस अस्पताल में कोई नया मरीज शामिल नही होगा । कुछ लोगो का इस इसपर विरोध है कि देश मे हेल्थ सुविधाएं पहले ही कम है यहां गलती दो डॉक्टर्स की थी उन्हें निलम्बित किया गया था और इसके बाद पूरे अस्पताल को बंद न करके दोषी डॉक्टर्स पर ही कार्रवाई हो तो । पर आज से ऑपेरशन रिजयुम होने से पहले इलाज करवा थे मरीजो के ऑपरेशन होंगे ।
अनिल अत्तरी दिल्ली ।
….
मैक्स हॉस्पिटल की तरफ से आज दी गई ऑफिसियल स्टेटमेंट नीचे है ।
..
As per Max Healthcare
Authorities:

“Max Hospital Shalimar Bagh has resumed its operations from today, following a stay order issued by the appropriate Appellate authority to whom an appeal was made.

We are fully focussed on providing quality care to all our patients and honouring our commitment of ensuring free treatment to the economically weaker sections of the society.”

Leave a Reply