काले की गोली मारकर हत्या

AA News
Narela
आज बाहरी उत्तरी जिले का नरेला इलाका गोलियों की तड़ तड़ाहट से दहल गया जब मंगला चौक की ओर से क्रेटा गाड़ी में लामपुर रोड के ओर जा रहे विरेंद्र मान उर्फ काले पर अज्ञात करीब 10 से 15 हमलावरों ने करीब 25 से 30 राउंड से ज्यादा फायरिंग कर दी । चश्मदीदों के अनुसार करीब दो दर्जन से ज्यादा फायरिंग की गई जिसमें करीब 10 हमलावर थे एक दर्जन से ज्यादा गोलियां वीरेंद्र मान उर्फ काले को लगी ।

Spot and Kala Man's File photo

Spot and Kala Man’s File photo

घटना की जानकारी नरेला थाना पुलिस को मिली पुलिस ने तुरंत घटनास्थल पर पहुंच काले को इलाज के लिए सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र अस्पताल में भिजवाया जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया । फिलहाल पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है और आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे और चश्मदीदों से पूछताछ के आधार पर मामले की जांच कर रही है । गाड़ी काले का ड्राइवर चला रहा था । ड्राइवर से पुलिस पूछताछ कर रही है।

यह फोटो वीरेंद्र मान उर्फ काले की है उम्र करीब 47 साल रोहिणी जिले के खेड़ा इलाके का रहने वाला है । जिसकी आज सुबह नरेला इलाके के लामपुर रोड पर बदमाशों ने अंधाधुंध गोलियां दाग कर मौत के घाट उतार दिया । बताया जा रहा है कि हमलावर पहले से ही लामपुर मोड पर वीरेंद्र मान उर्फ काले के लिए घात लगाए बैठे थे ।

जैसे ही वीरेंद्र मान नरेला के मंगला चौक से लामपुर रोड पर पहुंचा तभी बदमाशों ने एक के बाद एक करीब 25 से 30 राउंड फायरिंग की । करीब 25 गोलियां काले को लगी जिसमें उसकी मौत हो गई । घटना की जानकारी नरेला थाना पुलिस को दी गई । पुलिस ने तुरंत ही मौके पर पहुंचकर काले को क्रेटा गाड़ी से बाहर निकाला और इलाज के लिए तुरंत ही नरेला के सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र भिजवा दिया जहां पर डॉक्टरों ने काले को मृत घोषित कर दिया । गाड़ी काले का ड्राइवर चला रहा था ।

डॉ रवि अरोड़ा (सीएमओ सत्यवादी राजा हरिशचंद्र हॉस्पिटल) ने बताया नरेला टेक्स्ट हमारे पास वीरेंद्र मान नाम से पेशेंट आया है उम्र करीब 47 साल मल्टीपल वोल्ट इंजरी है 20 से 25 गोलियां नजर आ रही है लगी हुई

वीरेंद्र ने बसपा से विधानसभा चुनाव भी लड़ा था और फिलहाल आम आदमी पार्टी कार्यकर्ता के रूप में काम भी कर रहा था । नरेला के स्थानीय आप विधायक शरद चौहान के साथ वीरेंद्र मान उर्फ काले की काफी नजदीकियां भी थी । करीब 3 साल पहले नरेला के बहुचर्चित सोनी आत्महत्या केस मामले में वीरेंद्र मान उर्फ काले की तरफ से शिकायतकर्ता को केस वापस लेने के लिए काफी धमकियां भी दी जा रही थी, उसी केस में काले की गिरफ्तारी भी हुई थी ।

काले पिछले कई सालों से क्राइम की दुनिया छोड़कर राजनीति में अपनी बेहतर छवि बना रहा था क्राइम की सभी बेडि FIR करीब 2008 से पहले की है पर इस बार वजह क्या है इसका खुलासा तो दिल्ली पुलिस जांच के बाद ही कर पायेगी।

फिलहाल नरेला थाना पुलिस ने काले के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है और घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी और चश्मदीद से पूछताछ के आधार पर मामले की जांच कर रही है । पूरा मामला पुलिसिया जांच के बाद ही साफ हो पाएगा कि हमलावर कितने थे और काले की हत्या के पीछे उनकी क्या मंशा थी ।

Leave a Reply