हरियाणा : मुख्यमंत्री की घोषणा पर चली शिक्षा विभाग की कैंची

AA News
हरियाणा ।

घोषणा 21715/- रु के मिले केवल 7419/- रु I

19 मार्च को प्रदर्शन कर करेंगे शिक्षा विभाग का घेराव |

कंप्यूटर शिक्षकों में फिर उठ रहे विरोध के सुर I

शिक्षा विभाग पर मुख्यमंत्री के आदेश ना मानने का आरोप I

Computer Teachers Welfare Association Haryana

Computer Teachers Welfare Association Haryana


अपने रोजगार को लेकर पिछले चार वर्षों से लगातार संघर्षरत प्रदेश भर के लगभग 2200 कंप्यूटर शिक्षकों की बीते दिनों मुख्यमंत्री से हुई बैठक में हल निकलने के आसार नजर आ रहे थे मगर एक बार फिर से शिक्षा विभाग ने 2200 शिक्षकों को बढ़ा हुआ वेतन देने की बजाय पुराना वेतन ही जारी कर दिया I गौरतलब है कि पिछले वर्ष को मुख्यमंत्री ने कंप्यूटर टीचर्स के साथ विभाग की आधिकारिक बैठक कर 1 जनवरी 2018 से 10 हजार की जगह PRT स्केल 21715/- रु प्रति माह देने का निर्णय लिया था I जिसके आदेश शिक्षा विभाग के ACS KK खंडेलवाल को दिए , एक तो हजारों टीचर्स को तीन महीने से वेतन नहीं मिला और अभी मिला तो केवल 7419/- रु I जिसे लेकर प्रदेश भर के शिक्षकों में गहरा रोष है और 19 मार्च को स्कूल से सामूहिक अवकाश लेकर पंचकुला में प्रदर्शन करेंगे I

बलराम धीमान , प्रदेशाध्यक्ष कंप्यूटर टीचर्स वेलफेयर एसोसिएशन हरियाणा

“मुख्यमंत्री जी के लिए निर्णय को लगभग तीन महीने बीतने को है मगर अब तक उस पर कारवाई ना होने से प्रदेश के सभी कंप्यूटर टीचर्स नाराज है , 1 जनवारी 2018 से बढ़ा हुआ वेतन मिलना था मगर वेतन 10 हजार से भी घटाकर दिया गया जिसमे सर्दियों की छुटियों के पैसे भी काट लिए गए जिसे लेकर पूरे प्रदेश के कंप्यूटर टीचर्स में नाराजगी है सोमवार को पंचकुला में प्रदर्शन करेंगे “

मुख्य मांग:- वर्तमान में काम कर रहे कंप्यूटर शिक्षकों को पद सृजित करके स्थाई पॉलिसी के तहत शिक्षा विभाग में समायोजन कर योग्यता अनुसार वेतनमान दिया जाये |

नहीं है स्वीकृत पद :- प्रदेश के सरकारी स्कूलों में कंप्यूटर शिक्षा देने के लिए वर्तमान में लगभग 2200 कंप्यूटर टीचर्स अपनी सेवाएं दे रहे है मगर अभी तक ना तो कंप्यूटर टीचर्स के पद स्वीकृत है और ना ही कंप्यूटर विषय को अनिवार्य किया गया है I वहीँ इस बारे में कंप्यूटर टीचर्स वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान बलराम धीमान ने बताया फिलहाल शिक्षक अस्वीकृत पद पर कार्य कर रहे है और कंप्यूटर के विषय का अनिवार्य ना होना बेहद चिंताजनक है I सरकार को जल्द से जल्द आगामी शैक्षणिक सत्र से कंप्यूटर के विषय को एक अनिवार्य विषय के रूप में लागू करना चाहिए और कंप्यूटर शिक्षा के लिए विशेष रूप से बजट जारी करना चाहिए जिससे कंप्यूटर लैब का रखरखाव, बच्चों को कंप्यूटर की किताबें आदि उपलब्ध करवाई जा सके
ये सब बातें बलराम धीमान द्वारा बताई गई है जो State President है Computer Teachers Welfare Association Haryana के ।

Leave a Reply